April 6, 2010

न अजनबी है मुझ से, न ग़म से मेरे, तू
दाग़-ए-दिल-ए-नाज़ुक से मेरे अंजान भी नहीं

है मसरूफ आख़िर कितना, के है औरों से रु-ब-रु
बस ग़म-ए-दिल से मेरे ही परेशान तू नहीं

क्या हो चला है इस कदर बेज़ार मुझ से तू,
के ग़म-ए-दिल से मेरे ज़रा परेशान तू नहीं?

ये फ़िर उसी मुक़ाम पर ले आई मुझे हयात
के मैं हूँ, मेरी तन्हाई है, कोई और फ़िर नहीं!


na ajnabii hai mujh se, na g.am se mere, tu
daag.-e-dil-e-naazuk se mere anjaan bhii nahii.n

hai masruuf akh.ir kitnaa, ke hai auro.n se ru-ba-ru
bas g.am-e-dil se mere hii pareshaan tu nahii.n

kya ho chala hai isa kadar bezaar mujh se tu
ke g.am-e-dil se mere zaraa pareshaan tu nahii.n?

ye fir usii muk.aam par le aayii mujhe hayaat
ke mai.n huu.n, merii tanhaayi hai, koii aur fir nahii.n!

1 comment: