April 14, 2009

बुलबुल एक और मेरे चमन की, उड़ चली घरोंदा नया बनाने.
"जुट जाए नया ठिकाना उसका", सोच कर लगा था उसे उड़ाने.
खड़ा हूँ ख़ाली हाथ मलता अब मैं यहाँ
के चले है वो घरोंदा नया बनाने...
ठिकाना नया जुटाने
मेरे इस चमन को वीरान थोडा और करके!


bulbul ek aur mere chaman ki, ud.a chali gharon.daa nayaa banaane
"juT jaaye nayaa Thikaanaa uskaa", soch kar lagaa thaa use ud.aane
khad.aa huu.n khaali haath maltaa ab mai.n yahaa.n
ki chali hai vo gharon.daa nayaa banaane...
Thikaanaa nayaa juTaane
mere isa chaman ko viraa.n thod.aa aur karke!

No comments:

Post a Comment